Breaking

Post Top Ad

रविवार, 12 जनवरी 2020

भारत के राष्ट्रपति

भारत के राष्ट्रपति 

  • भारत में संसदीय प्रणाली को अपनाया गया है भारत का राष्ट्रपति भारत का प्रथम नागरिक कहलाता है 
  • संवैधानिक (नाममात्र, औपचारिक) राष्ट्रपति नाम की कार्यपालिका है तथा प्रधानमंत्री तथा इसका मंत्रिमंडल वास्तविक कार्यपालिका है 
  • अनुच्छेद 52 में राष्ट्रपति का प्रावधान किया गया है राष्ट्र का अध्यक्ष होता है 
  • अनुच्छेद 53  भारतीय संघ की समस्त कार्यपालिका शक्ति राष्ट्रपति में निहित है, स्वयं या अधीनस्थ पदाधिकारियों के माध्यम से प्रयोग करता है 
योग्यता 

  • अनुच्छेद 58 - भारत का नागरिक हो, आयु 35 वर्ष से कम न हो , लोकसभा का सदस्य बनने की योग्यता रखता हो|  ,किसी भी लाभ के पद पर आसीन न हो| , उम्मीदवार के लिए निर्वाचक मंडल के 50 प्रस्तावक तथा 50 सदस्य अनुमोदक के रूप में हो आवश्यक हो | 




निर्वाचन प्रणाली ( अनु. 55 )

  • अनुपातिक प्रतिनिधित्व की एकल संक्रमणीय मत प्रणाली ( यह विधि राजयसभा, विधानपरिषद, एवं उपराष्ट्रपति के चुनाव में  अपनायी जाती है )

  • Note : राष्ट्रपति किसी भी सदन (व्यवस्थापिका  संसद ) का सदस्य नहीं होता है लेकिन संसद का एक भाग होता है 

  • राष्ट्रपति की उम्मीदवारी पेश करने के लिए 50 प्रस्तावक और 50 अनुमोदक आवश्यक होते है 
  • ये प्रस्तावक और अनुमोदक राष्ट्रपति के निर्वाचक मंडल के ही सदस्य होते है 
निर्वाचन मंडल (अनु. 54 )

  • संसद के दोनों सदनों के निर्वाचित सदस्य तथा राज्य विधानसभा के निर्वाचित एवं दिल्ली व पुडुचेरी विधानसभा के निर्वाचित सदस्य राष्ट्रपति को चुनते है 

  • Note : 70 वे संविधान संशोधन 1992 द्वारा दिल्ली व पुडुचेरी की विधानसभा को यह अधिकार दिया गया  है 

  • 󠅔󠅔संसद के 14  सदस्य चुनाव में भाग नहीं लेते है 
  • * 2 लोकसभा के और 12 राजयसभा के राष्ट्रपति द्वारा मनोनीत सदस्य 

  •   राष्ट्रपति के निर्वाचक मंडल का ढांचा 

  • संसद  =लोकसभा545  (निर्वाचित 543+2 सदस्य भाग नहीं लेते )
  •           +राजयसभा 245 (निर्वाचित 233 +12 सदस्य मनोनीत भाग नहीं लेते )
  • राज्यविधान सभा 4120 + दिल्ली पुंडुचेरी 

  • दिल्ली व पुंडुचेरी को राष्ट्रपति चुनाव में भाग लेने की स्वीकृति 70 वे संशोधन 1992  से मिली 
  • राष्ट्रपति के चुनाव में विधानपरिषद भाग नहीं लेती है 
  • राष्ट्रपति का चुनाव केंद्रीय निर्वाचन आयोग संपन्न करता है 
  • राष्ट्रपति के निर्वाचन सम्बन्धी विवादों का निस्तारण अनुच्छेद 71  के तहत सर्वोच्च न्यायालय द्वारा किया जाता है  
  • यदि किसी राज्य की विधानसभा भंग हो तथा राष्ट्रपति का चुनाव संपन्न होने वाला हो तो ऐसे में उस राज्य की विधानसभा चुनाव में हिस्सा नहीं लेती है तथा चुनाव संपन्न करवाया जाता है 
  • ऐसा पहली बार 1974 में गुजरात विधानसभा के संदर्भ में  हुआ था , जब वह भंग थी और राष्ट्रपति का चुनाव होना था 
  • चुनाव में जमानत की राशि 15000 रु होती है 
  • यदि कोई उम्मीदवार डाले गए वैधानिक मतों का 1/6 हिस्सा प्राप्त नहीं कर पाता तो ऐसे में जमानत की राशि जब्त हो जाती है 
  • राष्ट्रपति के चुनाव में आवश्यकता होने पर द्वितीय चक्र के मतों की गणना भी की जाती है , जो अब तक मात्र एक बार हुई है 
  • *1969 में वी. वी. गिरी ने नीलम संजीव रेड्डी को दूसरे चक्र की मतगणना में हराया 

 निर्वाचक मंडल के सदस्यों के मतों का मूल्य निकलना 

  • जैसे-  राज.   =1971 की राज्य  जनसँख्या / राज्य विधानसभा के निर्वाचित सदस्यों की संख्या *100 
  •    2157*65000 /200*1000 =128.870 (129 )
  • विधायकों में सर्वाधिक मत मूल्य उत्तरप्रदेश के विधायकों का  208 
  • विधायकों का न्यनतम मूल्य सिक्किम के विधायक का 7 


  • एक सांसद का मत मूल्य निकलने का सूत्र 
  • देश के सभी विधायकों के मतो का कुल योग / निर्वाचित सांसदों की संख्या 
  •        549400 / 776 = 707.8 (708 )


  • राष्ट्रपति का चुनाव जितने के लिए आवश्यक न्यूनतम मत *डाले गए कुल वैध मतों का ५०% से कम से कम 1 अधिक अर्थात 50% + 1 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

पेज